Penalty Meaning in Hindi with Full Explaination

आज हम बहुत ज्यादा प्रचलित वर्ड Penalty को लेकर इसके फायदे ऑर नुकसान को उदाहरण के साथ शॉर्ट तथा विस्तार रूपो मे आपके सामने प्रस्तुत करेंगे। यह मतलव खास तौर पर किसी व्यक्ति के द्वारा गलती करके कानून को तोड़ा जाये तो इसे लागू किया जाता है। 

यह की जाने बाली गलती के अनुसार उसके भुगतान को दंड के रूप मे देखते है। चलिये आगे आपको सभी बाते स्टेप के द्वारा बताने की कोशिश करते है। आशा है अंत तक पढ़कर सब कुछ समझ आ ही जाएगा। 

Penalty Meaning in Hindi with Full Explaination :


Penalty Meaning in Hindi :

दंड, 
जुरमाना, 
अर्थ दंड,

अभी तक आपने ऊपर के हर एक शॉर्ट अर्थ को अपने फायदे अनुसार समय - समय पर भिन्न स्थान पर उपयोग किया होगा। ये छोटे मीनिंग याद तो बहुत जल्दी हो जाते है लेकिन थोड़ा समय बिताने के बाद दिमाग इन्हे भुला देता है क्योकि ये छोटे रूप मे होने से दिमाग इनकी कोई तस्वीर नही बना पाता है। हालाकि दिमाग सभी का एक समान तरीके से कार्य करता है तो यह समस्या हर एक आदमी को होगी। इसके सही परिणाम के लिए यह पोस्ट आखिर तक जरूर पढ़े। चलो अब जल्दी से शुरू करते है। 



Means of Penalty in Hindi with All Examples :


अर्थ को सम्पूर्ण विस्तार रूप मे समझे - 

- दंड, मेरे खयाल से आप सभी को इसकी खबर पहले से ही होगी क्योकि ये सब हमारे आस - पास घटित घटनाओ के अंदर ही देखा जाता है। जब कोई व्यक्ति समाज मे बनाए दायरों को तोड़कर कुछ गलतिया करता या बाहरी दूसरे लोगो को परेशान करता है तब यह स्थिति बनती है, जिसमे कानून के द्वारा सजा दी जाती है। देखिये हम मानव रूप मे जीवन जीते है जिससे भावनाओ के कारण ये अक्सर देखने मे आता है। अनेकों उदाहरण चारो तरफ से सुनते ही होंगे। 

- जुरमाना, किसी तरह से दूसरे के नुकसान के कारण सरकार के कानून द्वारा उस व्यक्ति को जुरमाना देना पड़ता है। यह कुछ स्थिति मे होता है नही तो सजा भी दी जाती है। समाज मे आए दिन कुछ लोगो को इसका भागीदारी बनते देखा ही होगा। उदाहरण के लिए जब एक के द्वारा दूसरे को बुरा कहने पर मान हानि के कानून के कारण जुरमाना चुकाना पड़ता है। यह स्थिति आजकल आम ही देखने को मिलती है। 

- अर्थ दंड, इस मतलव को पढ़ते ही कुछ मामलो मे इसका रूप समझ आने लगता है। पहले पुराने टाइम मे चले तो जब कोई व्यक्ति राजा की बात को नही मानता था तब उसके ऊपर अर्थ दंड लगाकर सजा दी जाती थी। आज इनका रूप भिन्न तरह से प्रकट होते देखते है। आगे प्रभाव के स्तर को भी जाने। 

इन अर्थ के प्रभावी करको को भी समझे - 

- दंड, जैसा की ऊपर समझाया मनुष्य के भीतर अनेकों भावनाए समय ऑर स्थिति के अनुसार उत्पन्न होती रहती है, जिसके चलते वह अच्छे काम करने के अलावा रूप काम समाज के नियमो ऑर कानून के विपरीत कर देते है। भावनाओ के चलते अच्छे कामो का परिणाम परिवार के साथ समाज को भी प्रगति कराता है लेकिन बुरे काम का नतीजा हमेशा शर्मिंदा करता नजर आता है। 

- जुरमाना, जब हमारे द्वारा कुछ ऐसी गलती हो जाये जिसमे आपको सजा ना देकर कुछ नियमो के आधार पर जुरमाने के रूप मे पैसे देना पड़ता है जो कि सामने बाले व्यक्ति की जेब मे जाता है। इतने बड़े समाज मे हर एक चीज गति से रोज काम करती है जिसमे इस तरह की घटनाए भी शामिल की जा सकती है। 

आप सभी इनका अनुभव आंतरिक या बाहरी रूपो मे देख पाते है। ये सब मनुष्य के इस धरती पर आने के बाद से बदलाब के साथ चलता आ रहता है। आगे उपयोगी पॉइंट को भी अवश्य जानिए। 

नीचे से उपयोगी बिन्दुओ को भी समझे - 

- दंड, यह एक व्यक्ति के द्वारा की गयी गलती के अंतर्गत देखते है। 

- जुरमाना, इसे सजा के बदले नियमो मे समझ सकते है। 

- अर्थ दंड, गलती को ठीक करने हेतु इसे चूकाकर मुक्त होते है। 

आपके द्वारा ऊपर बताई पोस्ट को सम्पूर्ण तरीके से पढ़ा गया होगा जिससे काफी फायदा आपको निजी ऑर बाहरी रूप से मिला होगा। यदि आपको यहाँ से कुछ जानकारी मिली तो बिना अपनी सलाह दिये इस पोस्ट को ना छोड़े। इस आर्टिक्ल के अपने निजी अनुभव हमे संदेश के माध्यम से जरूर भेजे तथा दोस्तो को इसकी जानकारी दे। चलो फिर मिलेंगे। 

Post a comment

0 Comments